ग्लोब अभियान का दौर

विंग कमांडर राहुल मोंगा का रेडियो साक्षात्कार

परिचय

माइक्रोलाइट में दुनिया की परिक्रमा करना उड़ान साहसी कार्य है। इसके लिए वायुयान की योजना तथा इंजीनियरी चुनौती पूर्ण एवं दिलचस्प है। हवाई मार्ग के मौसम को समझना तथा पूरे विद्गव की नौकरशाही का सामना करना तथा विनियमों को जानना काफी निरूत्साहित करने वाला कार्य है। इसके अलावा कोई भी दूसरा विमानन क्षेत्र का कार्यक्रम नहीं है जो इतना बड़ा एवं समान रूप से बहु आयामी हो। जलवायु पराकाषठा में प्रतिदिन छः घण्टे की औसत उड़ान भरना पायलट के लिए शारीरिक एवं मानसिक रूप से बहुत कठिन होता हैे जिसके लिए पायलट एवं उनके वायुयानों पर बहुत दबाव रहता है।

अब तक केवल दो माइक्रोलाइट ही इस साहसिक कार्य को पूरा कर पाए हैं। पहली बार १९९८ में ब्रिटिद्गा पायलट ब्रायन मिल्टन ने (के रेनॉल्ड तथा पी पेट्रोव के साथ) १२१ दिनों में यह साहसिक कार्य पूरा किया था। दूसरी बार भी ब्रिटिद्गा पायलट ने सन्‌ २००० में इसे ९९ दिनों में पूरा करके एक रिकॉर्ड बनाया था जो वर्तमान रिकॉर्ड भी है। भा वा से इस रिकॉर्ड को तोड़ने की योजना बना रहा है।

रूट 

फेडरेद्गान एयरोनॉटिक इंटरनेद्गानल (एफ ए आई) की नियंत्रण आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए हवाई मार्ग की योजना बनाई गई है, एफ ए आई एयरोस्पोर्ट की अधिशासी इकाई है। एफ ए आई ने इस पर कुछ प्रतिबंध संबंधी शर्तें भी लगाई है जो नीचे दी गई हैं :-

एफ ए आई के अनुसार विश्व परिक्रमा

  • सभी मेरिडियन को पार करते हुए इसकी शुरूआत एवं अंत एक ही एयरोड्रोम से होनी चाहिए।
  • हवाई मार्ग की दूरी ३६७८७.५५९ किमी. (कर्क रेखा की लंबाई के बराबर) से कम न हो।
  • सभी नियंत्रण केन्द्र ६६० ३३' (उत्तरी एवं दक्षिणी शीत जोन के बाहर) से कम अक्षांद्गा पर हो।
  • यदि अप्रत्याद्गिात परिस्थितियों के कारण उड़ान भरने वाले एयरोड्रोम से संभव न हो तो दूसरे एयरोड्रोम जो मूल से दूर हो उस पर वायुयान उतर सकता है।
  • आरंभ एवं अंत के बीच का जमीन पर बिताया गया समय भी उड़ान समय माना जाएगा ।
  • विंग तथा फ्यूज़िलेज़ नहीं बदले जाएंगे।
  • उड़ान के दौरान क्रू सदस्य नहीं बदले जाएंगे। हालांकि आपात स्थिति में पायलट-इन-कमान के अलावा क्रू सदस्य हट सकते हैं किन्तु बदले नहीं जाएंगे। उड़ान के दौरान यात्री बदले जा सकते हैं।

एयरफील्ड

भारत
दिल्ली, इलाहाबाद, बागडोगरा, गुवाहाटी

म्यांमार
मांडले, यंगून

थाईलैंड
बैंकोक

वियतनाम
दा नांग

चीन
हाइकू, गुआंगझु, जियामेन, फुजऊ, हांगकियो, किंगडाऊ, डालियां, चंगचुन, जियामुसी

रूस
खाबरोव्स्क, निकोलियोस्क ना अमुरे, अजान, ओखवोत्सक, मगादेन, चायाभुका, मारकोवो, अनाद्रे, बुहटा प्रोवेदेनिया

संयुक्त राज्य अमेरिका (प्रथम चरण)
नोम, मैकग्राथ, एंकोरेज, याकूतात, जुनियाउ

कनाडा (प्रथम चरण)
प्रिंस रूपर्ट, कौमेक्स

संयुक्त राज्य अमेरिका (दूसरा चरण)
बेलिंघम, स्नोहोमिद्गा, सलेम, अर्काटा-यूरेका, ट्रेसी, सांता पॉला, लेक हवासू सिटी, पेज, कोलोराडोस्प्रिंग, लिबरल, पॉल्स वैली, मार्द्गाल, न्यू ओरलियन्स, मैरियाना, जैकस्नोविल, कैमडेन, रोवनोक

कनाडा (दूसरा चरण)
टोरंटो, मतागामी, ली ग्रांड रिवेरिया, इनुक्जुआक, कैंगीकशुजुआक, इक्वाल्यूट

ग्रीन लैण्ड
नुक, कुलूसूक

आइसलैंड
रिक्जाविक

फेरोइस (आइलैण्ड)
वगार

यू के
अबेरदीन, नार्विक

जर्मनी
मंस्टर ओसनाब्रक, इगर्सडोर्फ, फ्रेडरिकद्गोफन

स्विटजरलैण्ड
समेदान

इटली
रोम

ग्रीस (यूनान)
केरकेयरा, कवाला

तुर्की
इस्तांबुल, सैम्सन, ट्रैबजॉन

इरान
तबरिज, कर्मनशाह, इस्फहान, द्गिाराज, बंदार अब्बास

यू ए ई
मस्कट

भारत
जामनगर, उदयपुर, दिल्ली

कुल उड़ान योजना दूरी: 41303 km/ 22302 nm
कुल ग्रेट सर्कल दूरी: 39549 km/21355 nm
कुल उड़ान समय: 236 hours
कुल ईंधन: 3900 liters


01 जून 2007-एयर स्ट्रॉफ के चीफ द्वारा दिल्ली के पास हिंडन एयर बेस से माइक्रोलाइट एक्सडेडिशन को झंडी दिखा दी गई, एयर चीफ मार्शल एफएच मेजर एवीएसएम पीवीएसएम एससी वीएम एडीसी .

दिन-1(01 जून 07) :

दिन-2(02 जून 07): हिंदुओं / भारत को इलाहाबाद / भारत और इलाहाबाद / भारत से बगोगाग्रा / भारत

दिन-3(03 जून 07): मंडालय / म्यांमार में यांगून // म्यांमार (यांगून से बैंकाक में शुरू हुआ, बैंकाक में खराब मौसम के कारण यांगून वापस आ गया)।

दिन-4(04 जून 07):यांगून / म्यांमार से बैंकाक / थाईलैंड

दिन-5(05 जून 07): बैंकाक / थाईलैंड से डानांग / वियतनाम

दिन-6(06 जून 07):डैनंग / वियतनाम को हाइको / चीन

दिन-7(07 जून 07):हाइको / चीन हाइकॉ / चीन (खराब मौसम के कारण) में वापस आ गया।

दिन-8(08 जून 07): हाइको / चीन हाइकॉ / चीन (खराब मौसम के कारण) में वापस आ गया।

दिन-9 तक दिन-10(09 तक 10 जून 07): खराब मौसम के कारण हाइकौ / चीन में रहें

दिन-11(11 जून 07):हाइकौ / चीन से गुआंगज़ौ / चीन

दिन-12 तक दिन 14(12 तक 14 जून 07): खराब मौसम (भारी वर्षा) के कारण गुआंगज़ौ / चीन में रहें।

दिन-15(15 जून 07): गुआंगज़ौ / चीन से फ़ूज़ौ / चीन (ज़ियामेन में लैंडिंग के बजाय, पिछले ज़ियामेन उड़ान भरी और फ़ूज़ौ में उतरा, जिससे एक दिन की बचत होती)

दिन-16(16 जून 07): बुरा मौसम के कारण फ़ूज़ौ / चीन में रहें

दिन-17(17 जून 07): फ़ूज़ौ / चीन से शंघाई / चीन

दिन-18(18 जून 07): शंघाई / चीन से क़िंगदाओ / चीन

दिन-19(19 जून 07): क़िंगदाओ / चीन से डालियान / चीन

दिन- 20(20 जून 07): डालियान / चीन से शेनयांग / चीन (माइकललाइट चेंजचुन (डेस्टिनेशन)) में तेज हवाओं के कारण लगभग 7 बजे उड़ान के बाद शेनयांग, चीन के लिए स्थानांतरित हो गया।

दिन- 21(21 जून 07): खराब मौसम के कारण शेनयांग / चीन में रहें।

दिन- 22(22 जून 07): शेनयांग / चीन से जियामूसी / चीन (चांगचुन के माध्यम से)

दिन- 23(23 जून 07): ज़ियामासी / चीन खाबरोवस्क / रूस (केवल पायलट विंग कमांडर राहुल मोंगा ऑन-बोर्ड के साथ, सह पायलट विंग कमांडर अनिल कुमार चीन से अलास्का, संयुक्त राज्य अमेरिका के लिए रवाना)।

दिन- 24(24 जून 07): खाबरोवस्क / रूस से निकोलेवस्क / रूस (केवल पायलट विंग कमांडर राहुल मोंगा पर बोर्ड के रूप में रूसी एयर ट्रैफिक कंट्रोल के रूप में केवल रूस में बातचीत होती है और इसलिए मशीन में एक रूसी नाविक होना अनिवार्य है)।

दिन- 25(25 जून 07): ओखोट्सक (गंतव्य) में खराब मौसम के कारण निकोलेव्स्क / रूस में रहें।

दिन - 26(26 जून 07): नीलोलावेस्क पर रहें, खराब मौसम के कारण रूस।

दिन - 27(27 जून 07):निकोलेवस्क / रूस से अजान / रूस
माइक्रोलाइट 9 20 एच पर निकोलेवस्क हवाई अड्डे से हवाई था और अजान, रूस में 1142 एच पर उतर गया। विंग कमांडर राहुल मोंगा एक रूसी नेविगेटर के साथ उड़ रहे हैं। विंग कमांडर अनिल कुमार उनके साथ संयुक्त राज्य अमेरिका में शामिल होंगे।

दिन - 28(28 जून 07): अजान / रूस से मैगदान / रूस (ओहोस्क)
माइक्रोलॉफ़्ट 0357 एच में अजान से उतरा और 0638 एच में ओओट्स्क पर उतरा। उसी दिन माइकललाइट मैग्दान, रूस में उड़ान भरी। विंग कमांडर राहुल मोंगा एक रूसी नेविगेटर के साथ उड़ान भरी (जैसा कि वायु यातायात नियंत्रकों केवल रूसी में बातचीत करते हैं)। विंग कमांडर अनिल कुमार अलास्का में शामिल होंगे।

दिन- 29(29 जून 07): मैगदान / रूस वापस मैगदान / रूस में।
माइक्रोलाइट ने अगले गंतव्य चाबबुखा, रूस के लिए रवाना किया। बर्फ को अंधा करने के कारण यह मैगदान वापस लौट आया।

दिन-30(30 जून 07): खराब मौसम के कारण मैगदान, रूस में रहें।

दिन-31(01 जुलाई 07):खराब मौसम के कारण माइक्रोड्राइट तीसरे दिन मैगदान, रूस में रहता है।

दिन-32(02 जुलाई 07): खराब मौसम के कारण चौथे दिन मैगदान, रूस में रहें।

दिन- 33(03 जुलाई 07): मैगदान / रूस से चयबुखा / रूस (केवल पायलट विंग कमांडर राहुल मोंगा ऑन-बोर्ड के साथ)।

दिन- 34(04 जुलाई 07):चाईबुखा / रूस से मार्कोवो / रूस (केवल पायलट विंग कमांडर राहुल मोंगा ऑन-बोर्ड के साथ)

दिन- 35(05 जुलाई 07): मिंकोलाईट 0256 एच आईएसटी मार्कोवो, रूस से दूर हो गया और रूस में एनादिर, 0443 एच IST पर उतरा।

दिन- 35(05 जुलाई 07): मिंकोलाईट 0632 एच आईएसटी एनाडीर, रूस से दूर हो गया और 0918 एच आईएसटी पर रूस में बूहता प्रोविडेंसिया, रूस पहुंचा।

दिन- 36(06 जुलाई 07):मिंकोलाईट 0327 एच आईटी पर बुहत प्रोविडेनिया, रूस से बंद हुआ और संयुक्त राज्य अमेरिका में 0521 h आईएसटी पर उतर गया

दिन- 36(06 जुलाई 07): मिंकोलाईट 2248 एच आईएसटी से नोम, संयुक्त राज्य अमेरिका में बंद हुआ और एमसी ग्रैथ, संयुक्त राज्य अमेरिका में 0118 एच IST पर उतरा 07 जुलाई 07.

दिन- 37(07 जुलाई 07): मिंकोलाईट 0558 एच आईएसटी से मैकग्रा, संयुक्त राज्य अमेरिका में बंद हुआ और 0,751 एच आईएसटी में एंकरेज, संयुक्त राज्य अमेरिका में उतरा। आज और कल माइक्रोलाइट विमान के लिए सर्विसिंग डे है

दिन-38(08 जुलाई 07):एंकरेज, संयुक्त राज्य अमेरिका में रहें यह माइक्रोलाइट विमान के लिए सर्विसिंग दिन है

दिन- 39(09 जुलाई 07): मिंटोकलाइट जून ईओ के लिए, संयुक्त राज्य अमेरिका में 2213 एच आईटी एंकोरेज, संयुक्त राज्य अमेरिका में ले गया और खराब मौसम के कारण संयुक्त राज्य अमेरिका में 2230 एच आईटी में एंकोरेज, वापस आ गया।

दिन- 40(10 जुलाई 07): मिंटकोलाइट ने फिर से जून ईओयू, संयुक्त राज्य अमेरिका के लिए 0448 एच आईएस से एंकोरेज, संयुक्त राज्य अमेरिका में भाग लिया और खराब मौसम के कारण अमेरिका में एंकोरेज, 0555 एच आईएसटी में वापस आ गया।

दिन-41(11 जुलाई 07): खराब मौसम - एंकरेज, संयुक्त राज्य अमेरिका में लांच किया गया माइक्रोलाइट।

दिन- 42(12 जुलाई 07): मैक्सिकोलाइट ने एंकरेज से 2243 एच IST (11 जुलाई 07) को बंद कर दिया और एंकोरेज में वापस आ गया। फिर से यह 0500IST पर उतर गया और नॉर्थवे पर उतरा, संयुक्त राज्य अमेरिका में 0728 एच IST। खराब मौसम की वजह से यात्रा कार्यक्रम के अनुसार मार्ग बदल गया है। अब यह मार्ग उत्तरवे - बीवर क्रीक - व्हाइटहॉर्स - प्रिंस जॉर्ज - स्नोहमिश होगा।

दिन- 42(12 जुलाई 07): माइक्रोलाइट उत्तरवे, संयुक्त राज्य अमेरिका से 2305 एच आईएसटी से दूर हो गया और बेवर क्रीक, युकोन टेरीटरी, कनाडा में 2330 एच आईएसटी पर उतर गया। कल वे व्हाइटहॉर्स, कनाडा के लिए रवाना होंगे

दिन- 43(13 जुलाई 07): माइक्रोलॉफ़्ट बीवर क्रीक, युकोन टेरिटरी, कनाडा से 0032 एच आईएसटी में बंद हुआ और व्हाइटहॉर्स, कनाडा में 0247 एच आस्ट्टर फ्लुअर 02 एचआर 15 मिन का उतरा। फिर से माइक्रोलाइट ने व्हाइटहॉर्स, कनाडा से 0420 एच आईएसटी पर उतर दिया और 02 घंटे 08 मिनट की उड़ान के बाद 0628 एच में वाटसन झील, कनाडा में उतरे।

दिन- 44(14 जुलाई 07):माइक्रोलाइट स्नोहोमिश, संयुक्त स्टेड पर पहुंचा। यह वाटसन झील - प्रिंस जॉर्ज - बेलिंघम - स्नोहमिश को ले जाया गया है।

दिन- 45(15 जुलाई 07): खराब मौसम - संयुक्त राज्य अमेरिका के स्नोहमिश में माइक्रोलाइट रहता है।

दिन- 46(16 जुलाई 07): खराब मौसम - दूसरे दिन के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका के स्नोहमिश में माइक्रोलाइट रहता है

दिन- 47(17 जुलाई 07): माइक्रोस्ट्राइट स्टॉकटेन, संयुक्त स्टेड पर पहुंचा। यह नोहोमिश - सलेम - आर्कटैटा - स्टॉकटेन उड़ान भरी है। ट्रेसी, संयुक्त राज्य अमेरिका में खराब मौसम के कारण इसे स्टॉकटेन, संयुक्त राज्य अमेरिका में स्थानांतरित किया गया था।

दिन- 48(18 जुलाई 07): माइक्रोलाइट सांता पॉला, संयुक्त स्टेड पर पहुंचे। यह स्टॉकटेन से लाया गया है - सांता पाउला

दिन- 49(19 जुलाई 07):माइक्रोलॉइड गुडइयर में पहुंचा, यूनाइटेड स्टेटेड

दिन- 50(20 जुलाई 07):माइक्रोलाइट सैन एंजेलो, टेक्सास, संयुक्त स्टेड पर पहुंचा।

दिन- 51(21 जुलाई 07):माइक्रोसॉफ्ट मेम्फिस में पहुंची, यूनाइटेड स्टेटेड यह सैन एंजेलो - बर्लसन - टेक्सार काना - मेम्फिस को उड़ाया है

दिन- 52(22 जुलाई 07): माइक्रोस्ट्रॉइट पिट्सबर्ग, टेक्सास में पहुंची, यूनाइटेड स्टेटेड यह मेम्फिस - लेक्सिंग्टन-फेयेट - पिट्सबर्ग लाया है।

दिन- 53(23 जुलाई 07): माइक्रोलॉफ्ट प्रोविडेंस में पहुंची, यूनाइटेड स्टेटेड यह पिट्सबर्ग लाया है - प्रोविडेंस।

दिन- 54(24 जुलाई 07): बुरा मौसम - माइक्रोलाइट प्रोविडेंस, संयुक्त राज्य अमेरिका में रहता है।

दिन- 55(25 जुलाई 07): माइक्रोलाइट ब्राम्प्टन, कनाडा में पहुंच गया। यह प्रोविडेंस - स्प्रिंगफील्ड - अल्बानी - टोरंटो - ब्रैंपटन को उड़ाया है।

दिन- 56(26 जुलाई 07): माइक्रोलाइट कनाडा के मातागामी में पहुंचा। यह ब्रैंपटन- मातागामी को उड़ाया है

दिन- 56(26 जुलाई 07):माइक्रोलाइट ला ग्रांडे रिव्एरे, कनाडा में पहुंचे। यह मागागामी-ला ग्रांडे रिविएर को उड़ाया है।

दिन- 57(27 जुलाई 07): खराब मौसम - कनाडा में ला ग्रांडे रिविएयर में माइक्रोलाइट रहता है।

दिन- 58(28 जुलाई 07):माइक्रोलॉफ़्ट इंकुजूक, कनाडा में पहुंचे।

दिन- 59(29 जुलाई 07): माइक्रोलॉफ़्ट कांगिकुजुआक, कनाडा में पहुंचे

दिन- 60(30 जुलाई 07): खराब मौसम - कनाडाई कांगिकुजुआक में माइक्रोलाइट रहता है।

दिन- 61(31 जुलाई 07): माइक्रोलाइट, इकलियट, कनाडा में पहुंचा।

दिन- 62(01 अगस्त 07):खराब मौसम - कनाडा के इकलियट में माइक्रोलाइट रहता है।

दिन- 63(02 अगस्त 07):न्यूक्ल, ग्रीनलैंड में 04 एचआर 15 मिनट की उड़ान के बाद माइक्रोलाइट पहुंचा।

दिन- 64(03 अगस्त 07): माइक्रोलॉफ़्ट रिक्जाविक, आइसलैंड में पहुंचे। यह नूजू-कुलुसुक-रिक्जाविक को उड़ाया है।

दिन- 65(04 अगस्त07): 02 एचआर 05 मिन की उड़ान के बाद हॉसल, आइसलैंड में माइक्रोलाइट पहुंचा।

दिन- 66(05 अगस्त 07): माइक्रोलाइट एबरडीन, इंग्लैंड में पहुंचे। यह होसन- एबरडीन उड़ाया है।

दिन- 67(06 अगस्त 07): माइक्रोलाइट इंग्लैंड के ह्यूटन में पहुंचा। यह एबरडीन - होटन को भेजा है।

दिन- 67(06 अगस्त 07): माइक्रोलॉफ्ट एगेंडरफ़ोफ़, जर्मनी में पहुंचे। इसमें हौटन-मुन्स्टरहॉनाब्रुक-एग्गेर्सड्रॉफ़ उड़ गए हैं।

दिन- 68(07 अगस्त07): सर्विसिंग डे - एग्जेर्सड्रॉफ़, जर्मनी में माइक्रोलाइट।

दिन- 69(08 अगस्त 07): खराब मौसम - जर्मनी के एग्जेर्सफ़ोफ़ में माइक्रोलाइट बनी हुई है।

दिन- 70(09 अगस्त 07): खराब मौसम - जर्मनी के एग्जेर्सफ़ोफ़ में माइक्रोलाइट बनी हुई है।

दिन- 71(10 अगस्त 07): खराब मौसम - जर्मनी के एग्जेर्सफ़ोफ़ में माइक्रोलाइट बनी हुई है

दिन- 72(11 अगस्त 07): खराब मौसम - जर्मनी के एग्जेर्सफ़ोफ़ में माइक्रोलाइट बनी हुई है

दिन- 73(12 अगस्त 07): माइक्रोलॉइड फ़्रेडरिकशफेन, जर्मनी में पहुंचा। यह एगर्सड्रॉफ़-फ़्रेडरिकशफेन को उड़ाया है

दिन- 74(13 अगस्त 07): माइक्रोलाइट रोम, इटली में पहुंचे। यह फ्रेडरिकशफेन - रोम

दिन- 75(14 अगस्त 07): माइक्रोलाइट ग्रीस के केकेराय में पहुंचा। इसमें रोम - लाटिनो - करकीरा उड़ गया है

दिन- 76(15 अगस्त 07): माइक्रोलॉफ़्ट केसेरी, तुर्की में पहुंचे। यह कर्क्य्रा - इस्तांबुल - केसेरी को भेजा है।

दिन- 77(16 अगस्त 07): माइकललाइट ताब्रज़, ईरान में पहुंचे। यह कैसेरी-वान-टाब्रिज़ को उड़ाया है

दिन- 78(17 अगस्त 07):माइक्रोलाइट बनदार अब्बास, ईरान में पहुंचे। यह टब्रिज़ - अहवाज़ - बनदार अब्बास उड़ गया है

दिन- 79(18 अगस्त 07):माइकललाइट भुज, Iइंडिया.It पर पहुंचे बनदार अब्बास - कराची - भुज उड़ गया है।

दिन- 80(19 अगस्त 07): माइक्रोलाइट हिंदुन्स, भारत में पहुंचा। यह भुज-अहमदाबाद-हिंदोन को भेजा है। उसने 80 दिनों में राउंड द वर्ल्ड एक्सपेडिशन पूरा कर लिया है।

-01123010400
-01123010800
Visitors Today : 9041
Total Visitors : 590264
Copyright © 2021 Indian Air Force, Government of India. All Rights Reserved.
phone linkedin facebook pinterest youtube rss twitter instagram facebook-blank rss-blank linkedin-blank pinterest youtube twitter instagram