स्वदेशीकरण प्रदर्शनियों

अवलोकन
संपर्क

परिचय
प्रौद्योगिकी तथा उद्‌गम के परिप्रेक्ष्य में भारतीय वायु सेना की माल-सूची व्यापक एवं भिन्न है। युद्ध में काम आने वाली मद्गाीनरी पुराने से लेकर अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी का अनुरक्षण एक चुनौती भरा कार्य है। इसका अधिकतम प्रयोग हमेशा से उस माल की इस क्षेत्र से जुड़े विशेषज्ञों द्वारा उसकी उपयोग की सीमा की समीक्षा के अध्ययन पर तैयार रिपोर्ट पर विवेकानुसार किया जाता है। डी आर डी ओ, सी एस आई आर के अंतर्गत आने वाले संस्थान तथा प्रमुख तकनीकी संस्थान तथा रक्षा पी एस यू विद्गिाषट सलाह के स्रोत रहे हैं।
संक्रियात्मक स्थिति किसी उपकरण की क्षमता बनाए रखने में मुखय रूप से उत्पाद के कार्य पर निर्भर है। पिछले कुछ समय में प्रौद्योगिकी की तीव्र प्रगति ने पुरानी तकनीक के प्रयोग को उसी गति से अप्रचलित कर दिया है। जिसके फलस्वरूप हमारे आयुध प्लेटफॉर्म एवं प्रणाली को अपेक्षित स्थिति में बनाए रखने में ओ ई एम से उत्पाद सहायता कम हो गई है।
अपने स्रोतों का प्रभावी उपयोग उत्पादन कम करने के विकल्प के माध्यम से किया जाता है। यह मौजूदा विकल्पों में सबसे आसान विकल्प है किंतु मालसूची की भौतिक क्षमता पर इसका विपरीत असर पड़ता है। हमारे संसाधनों के अधिकतम उपयोग की स्थिति एवं अपरिहार्य आवश्यकता हमें स्वदेद्गाीकरण के रूप में समाधान के लिए मजबूर करती है।

संगठनात्मक संरचना

स्वदेद्गाी विकास गतिविधियों के लिए संगठनात्मक संरचना निम्नलिखित तीन स्तरों में है :-

वायु सेना मुखयालय   ए सी ए एस (एम पी) के अंतर्गत कार्यरत निदेद्गाक स्वदेद्गाीकरण द्वारा व्यापक नीतियां, स्वदेद्गाीकरण की गतिविधियों की सुविधा मुहैया कराने वाली अन्य एजेंसियों के साथ उच्च स्तर का समन्वय। सर्वोच्च स्वदेद्गाीकरण समिति में ए सी ए एस (एम पी) भारतीय वायु सेना का प्रतिनिधित्व करते हैं।
अनुरक्षण कमान     मुखयालयस्वदेद्गाीकरण गतिविधियों से संबंधित सभी पक्षों के लिए अनुरक्षण कमान मुखयालय प्रमुख एजेंसी है। कमान स्वदेद्गाीकरण अफसर बी आर डी द्वारा की जा रही स्वदेद्गाीकरण की गतिविधियों के लिए आवश्यक सुविधा मुहैया करते हैं तथा समन्वय तथा नियंत्रण रखते हैं।
बी आर डी  बी आर डी विभिन्न एजेंसियों के साथ मिलकर निर्माण गतिविधियों को विवेकानुसार चलाने वाली तथा परिणाम देने वाली कार्यनिषपादन एजेंसी हैं। डिपो में आई डी एस का स्क्वाड्रन कमोडर सभी स्वदेद्गाी विकास से संबंधित मामलों की देखभाल करते हैं।

बेस मरम्मत डिपो की भूमिका

भारतीय वायु सेना का बेस मरम्मत डिपो अनुरक्षण कमान मुखयालय के प्रकार्यात्मक नियंत्रण में है। प्रत्येक बी आर डी को विद्गिाषट भूमिका दी गई है। ये अपने दिए गए कार्यक्षेत्र में सभी रेंज के स्पेयर्स के लिए नामित स्वदेद्गाी एजेंसी भी हैं। बी आर डी के कार्यों की सूची नीचे दी गई है।

स्वदेद्गाीकरण प्रक्रिया

अनुरक्षण कमान मुखयालय/वायु सेना मुखयालय द्वारा विशेष तौर पर दिए गए कार्य के अतिरिक्त बी आर डी की सभी अनुरक्षण अपेक्षाओं के स्वदेद्गाीकरण का कार्य शुरू किया जाएगा। नीचे दी गई स्वदेद्गाीकरण की प्रक्रिया बी आर डी के स्वदेद्गाीकरण स्क्वाड्रन द्वारा की जाएगी।

आवश्यकता का उद्‌गम भारतीय वायु सेना की जरूरतों का स्वदेद्गाीकरण आवश्यकता के अनुरूप है।
तकनीकी वाणिज्यिक विवरण स्वदेद्गाीकरण की प्रक्रिया संबंधित बी आर डी द्वारा आरंभ की जाएगी। इसके लिए तकनीकी एवं वाणिज्यिक इनपुट विभिन्न एजेंसी/विक्रेताओं से लिया जाएगा।
साध्यता अध्ययन यह पता करने तथा सुनिद्गिचत करने का अध्ययन है कि यह वैज्ञानिक तथा तकनीकी मामलों को पूरा करने में व्यवहार्य एवं वाणिज्यिक विकल्प के रूप में ठीक है।
प्रस्ताव का निवेदन स्वदेद्गाी विकास का प्रस्ताव खयाति तथा क्षमता पर लघु सूची में सूचीबद्ध किए जाने के बाद सभी सक्षम विक्रेताओं को दिया जाएगा। प्रस्ताव का निवेदन (आर एफ पी) एक दस्तावेज है, जिसका तकनीकी एवं वाणिज्यिक महत्व है।
बोली शुरू करना बोली को प्राप्त करने तथा उसको लगाने की प्रक्रिया रक्षा प्रापण नियमावली में दिए गए अनुदेद्गाों के अनुरूप होगी।
अनुमोदन के निवेदन की तकनीकी विद्गिाषटताओं के साथ तकनीकी बोली की अनुरूपता सुनिद्गिचत करने के लिए बोली का तकनीकी मूल्यांकन किया जाएगा तथा गुणवत्ता जरूरतों के संबंध में सभी बोली लगाने वालों को समान मौका दिया जाएगा।
डेवलपमेंट ऑर्डर के निर्णय में वाणिज्यिक बोली का मूल्यांकन मुखय क्रियाकलाप है। टी ई सी द्वारा अनुमोदित किए गए विक्रेताओं की वाणिज्यिक बोलियों पर विचार किया जाएगा। पुराने प्रारूप सहित डेवलपमेंट लागत तथा वर्तमान वाषर्ािक जरूरतों के अनुसार अपेक्षित मात्रा की लागत को आधार मानकर एल १ विक्रेता सुनिद्गिचत किया जाएगा।

डेवलपमेंट ऑर्डर: एल १ विक्रेता को डेवलपमेंट ऑर्डर दिया जाएगा। ऑर्डर के निषपादन को प्रभावित करने वाले सभी नियम व शर्तें डेवलपमेंट ऑर्डर में समाहित होंगे।
उत्तर संविदा दायित्व विक्रेता पूर्णरूप से संविदा दायित्व का सम्मान करेगा। वित्तीय स्वरूप वाले डेवलपमेंट ऑर्डर को आगे भेजने की प्रक्रिया डी पी एम के अनुसार की जाएगी।
भुगतान डेवलपमेंट के सफल होने तथा पूर्णरूप से डेवलपमेंट ऑर्डर को मानने के बाद बी आर डी के स्वदेद्गाीकरण अफसर, भुगतान की प्रक्रिया आगे बढ़ाएंगे।

डेवलपमेंट की प्रक्रिया
बी आर डी सामग्री पुर्जों के आरेख, प्रक्रिया तथा स्वीकार्य टेस्टिंग पर संबंधित मानक के अनुसार पुर्जों का निर्माण करेंगे। बी आर डी की सेल्फ रिलायंस समिति आरेख में दी हुई सूचना के अनुसार परीक्षण करने तथा/या आखिरी प्रकार्यात्मक प्रयोग जांच के बाद ऐसे पुर्जों को प्रमाणपत्र जारी करेंगे। जिन वस्तुओं की तकनीकी सूचना उपलब्ध नहीं है तो उनके बारे में सभी संबंधित एजेंसियों से प्रमुख सूचना प्राप्त की जानी अपेक्षित होती है। ऐसे पुर्जों के स्वदेद्गाीकरण की प्रक्रिया इस प्रकार है।

तकनीकी विद्गिाषटताओं का निर्माणपहली क्रियाविधि तकनीकी विद्गिाषटता को बनाना एवं तैयार करना है। इस दस्तावेज को डिपो का स्क्वाड्रन तैयार करेगा जिसमें सामग्री का डिजाइन तथा प्रदर्द्गान की विशेषताओं का वर्णन होगा। जहां पर सामग्री तथा पुर्जों के आरेख पर कोई सूचना उपलब्ध नहीं है तो वहां पर सेमीलेक (ब्म्डप्स्।ब्) या टेस्ट हाऊस के माध्यम से बी आर डी द्वारा विपरीत इंजीनियरी द्वारा तैयार किया जाएगा।
डिजाइन चरण डिजाइन पैरामीटर तैयार किए जाएंगे तथा सभी पुर्जों, उपतंत्र, उनकी प्रक्रिया पैरामीटर सहित तंत्रों को तैयार किया जाएगा।
आरेख को तैयार करना आरेख विद्गिाषटताओं के अनुरूप तैयार किए जाएं।
पूर्व प्रारूप निर्माण निर्माण अनुमोदित आारेख में दी गई सामग्री एवं प्रक्रिया के अनुरूप हो।
परीक्षण : अनुमोदित परीक्षण हाउस/प्रयोगशाला में अनुमोदित परीक्षण अनुसूची के अनुसार परीक्षण किए जाएं।
परीक्षण रिपोर्ट तथा स्वीकृति उस प्रकार का संतोषाजनक परीक्षण करने के उपरांत रिकॉर्ड किया जाएगा तथा उसकी स्वीकृति के लिए प्रमाणन एजेंसी को भेजा जाएगा।
प्रमाणन : संतोषाजनक ट्रायल पूरा होने के बाद प्रमाणन एजेंसी प्रमाणन की अस्थाई अनापत्ति उपलब्ध कराएगी।
प्रमाणन का लागू होना प्रमाणन एजेंसी के अनुमोदन पर स्वदेद्गाी सामान के लिए बी आर डी के स्क्वाड्रन द्वारा एक स्थानीय प्रमाणन संखया (स्ब्) नियत किया जाएगा जो सभी संबंधित एजेंसियों पर लागू होगा।
प्रापण : विकास स्रोत के माध्यम से प्रापण को प्रभावित करने के लिए एल सी एक वैध दस्तावेज है।

भारतीय वायु सेना में स्वदेद्गाीकरण

विक्रेताओं को यह बताना उचित होगा कि भारतीय वायु सेना की जरूरतें अनुरक्षण की हैं। साथ ही प्रौद्योगिकी/मूल डिजाइन का हस्तांतरण नहीं है। अनुरक्षण/ओवरहॉल मैनुअल में मौजूद समस्त सूचना बेस मरम्मत डिपो के अनुभवी कार्मिकों के साथ उपलब्ध है जिसे नमूने समेत विक्रेताओं को उपलब्ध करा दिया जाएगा। यह विवरण हो सकता है पर्याप्त न हो तथा संबंधित क्षेत्र से जुड़े जानकार व्यक्ति से विस्तृत जानकारी से अपेक्षित और अधिक सूचना प्राप्त की जा सकती है। विशेष अपेक्षित व्यापक परीक्षण के लिए विशेष परीक्षण रिंग तैयार किया जाए।

इस प्रकार जटिल पुर्जों के लिए विक्रेताओं को उस उत्पाद मे डिजाइन तथा परीक्षण पक्षों की जानकारी अवश्य हो। यह सुनिद्गिचत करने के लिए दो बोली प्रणाली अपनाई जाती है। विक्रेता इंजीनियरिंग ड्राइंग/सर्किट डायग्राम के साथ निषकर्षा पर पहुंचेंगे। परीक्षण संबंधी समय सारणी के साथ इसका अनुमोदन सक्षम उड़ान योग्यता अनुमोदन प्राधिकार द्वारा किया जाएगा। विक्रेता की क्षमता का आकलन भारतीय वायु सेना के मानदंडों में अनुमोदन प्राप्त करने की क्षमता से किया जाता है। हालांकि पिछले कुछ वर्गो में भारतीय वायु सेना ने कई अध्ययन किए हैं

विक्रेता की पहचान
भारतीय वायु सेना की स्वदेद्गाी निर्माण क्रियाकलापों में भाग लेने के लिए कोई औपचारिक पंजीकरण की जरूरत नहीं है।

संभावित विक्रेताओं की पहचान निम्नलिखित स्रोतों से की जाती है।

निर्माण/स्वदेद्गाीकरण के लिए स्पेयर के विभिन्न वर्गों के लिए बी आर डी की प्रमाणित तथा प्रत्याद्गिात सूची।
एल ए एल, एस टी १ः सिटी यू १ः एस टी त्रष) ऑनष झ ए डी ए तथा अन्य बी आर डी प्रयोगशाला, एल सी एस ओ, एस आई ए टी आई, सेमीलैक (ैम्डप्स्।ब्) तथा व्यापक प्रतिस्पर्धा के लिए कई अन्य के विक्रेता।
अपेक्षित क्षेत्र में सक्षम विक्रेता को खोजने के लिए इंटरनरेट से खोज।
बी आर डी/अनुरक्षण कमान मुखयालय से संपर्क करके अपनी रूचि दिखाने वाले सक्षम एवं सामर्थ्यवान विक्रेता।जिससे स्पेयर रेंज का विवरण सामने आया है। हम स्वेच्छा से इस विवरण को तथा मौजूद सूचना साझा करते हैं।

विक्रेता चयन
संभावित विक्रेता को बोली के लिए दिया गया प्रस्ताव दो भागों में होगा अर्थात्‌ तकनीकी बोली तथा वाणिज्यिक बोली।

निर्धारित गुणवत्ता की जरूरतों के अनुरूप किए गए तकनीकी मूल्यांकन से सभी विक्रेताओं का समान रूप से मूल्यांकन किया जाएगा। इसके करने का उद्‌देश्य यह सुनिद्गिचत करना है कि सभी विक्रेताओं ने निविदा की जरूरतों को ढंग से समझ लिया है।

टी ई सी रिपोर्ट सभी विक्रेताओं को एक समान रूप से उत्पाद एवं सर्विस की पहचान करने का समान अवसर उपलब्ध कराती है, जिसे बाद में चयनित विक्रेताओं से मंगाया जाना है।

निविदा देने के निर्णय के बाद एक बार जब टी ई सी सी अनापत्ति हो जाती है तो मूल्य एकमात्र मानदंड होता है।

कीमत के बारे में निविदा प्राप्त किए विक्रेता से समझौता किया जाता है।

निष्कर्षा
उपर्युक्त विस्तृत वर्णन का उद्‌देश्य भारतीय वायु सेना की तकनीकी गहनता के बारे में बताना है। भारतीय उद्योग निद्गिचत रूप से काफी सक्षम है। हमारे उद्‌देश्य केवल आपकी क्षमता निखारना है। उडाऩ योग्यता की जरूरतों को कम नहीं किया जा सकता है। विमानन एवं एयरोस्पेस को सबसे ज्यादा उन्नत तकनीकी उद्योग के रूप में कोई नकार नहीं सकता।

हमारा प्रयास है कि हम अपनी प्रक्रिया को आसान बनाएं तथा अपनी कठिनाइयों को अपने औद्योगिक साथियों के साथ साझा करें। मैं आप सभी को आमंत्रित करता हूं जिनके पास योग्यता, विशेषज्ञता, अवसंरचना हो तथा सहयोग देने के इच्छुक हैं, वे हमें समृद्ध बनाएं। जटिल स्पेयर में साहस दिखाने के लिए आपको मजबूत बनना होगा क्योंकि कहा जाता है ''जब राह दुषकर हो तो वीर ही आगे बढ़ते हैं।''

 

UnitAppointmentPostal AddressTelephone No.Fax No.
1 BRDSE (Indg)Air Force Station Chakeri Kanpur-2080080512-2451730 Extn: 41142402820
3 BRDSE (Indg)Air Force Station Chandigarh-1600030172-2641090-95 Extn: 3032642638
4 BRDSE (Indg)Air Force Station Chakeri Kanpur-2080080512-2451730 Extn: 44162451428
5 BRDSE (Indg)Air Force Station Sulur Coimbatore-6414010422-26833812683318
7 BRDSE (Indg)Air Force Station Tughlakabad New Delhi - 110062011-26047980 Extn:42826044238 26046227
8 BRDSE (Indg)Air Force Station Avadi Chennai-600055044-26841194 Extn: 7714 044-2684048926840479
9 BRDSE (Indg)Air Force Station Nagar Road, Pune-411014020-26633281 Extn: 486 020-2663446226634462
11 BRDSE (Indg)Air Force Station Ojhar Nasik-42222102550-276641 Extn: 409276640,47,49
12 BRDSE (Indg)AirForce Station Nazafgarh Delhi 110043011-25318745-50 Extn: 7575 011-2531870425318704 25318751
13 BRDSE (Indg)Air Force Station Palam New Delhi-110010011-25675527 Extn: 40825671290
16 BRDSE (Indg)Air Force Station Palam New Delhi-110010011-25675527 Extn: 48825671613
1 CIMDSE (Indg)C/O- Air Force Station Ojhar Nasik-42222102550-276641 Extn: 428272233
HQ MCC Indg OHQ MC Vayusena Nagar Nagpur-4400070712-2512771 Extn:22162511761
Air HQDirector Joint DirectorAir HQ (RKP) West Block-6, 2ndfloor, Wing-7, RK Puram New Delhi- 110066011-23010231 Extn7992/799426189497
-01123010400
-01123010800
Visitors Today : 46
Total Visitors : 571527
कॉपीराइट © 2021 भारतीय वायु सेना, भारत सरकार। सभी अधिकार सुरक्षित।
linkedin facebook pinterest youtube rss twitter instagram facebook-blank rss-blank linkedin-blank pinterest youtube twitter instagram