दक्षिण-पश्चिम वायु  कमांड

इतिहास
संगठन
उपलब्धियां
एओसी-इन-सी
संपर्क पता

जय श्री वर्ते वीरम अर्थात्‌ जीत वीरों का गहना है-भारतीय वायु सेना के सबसे ज्यादा ऑपरेद्गानल कमानों में से एक दक्षिण पद्गिचम वायु कमान का आदर्द्गा वाक्य है।

यह कमान मूल रूप से २१ सितंबर १९७२ को नं. १ ऑपरेद्गानल ग्रुप के रूप में जोधपुर में स्थापित किया गया था, इसे बाद में २३ जुलाई १९८० को दक्षिण पद्गिचम वायु कमान के रूप में बदल दिया गया। इस कमान को पद्गिचम वायु कमान से ऑपरेद्गानल क्षेत्र को काटकर बनाया गया जिसमें ज्यादातर राजस्थान का भाग एवं पूरा गुजरात द्याामिल है। दक्षिण पद्गिचम वायु कमान के क्रेस्ट के द्याीर्ヤा पर राヤट्रीय चिह्‌न जिस पर लटकते हुए फूलों की माला है जिसमें केंद्र के ऊपरी आधे भाग में ''दक्षिण पद्गिचम वायु कमान'' लिखा हुआ है। केंद्रीय भाग पंख सहित खंजर से सुसज्जित है। नीचे जहां भारतीय वायु सेना लिखा हुआ है वहां स्क्रॉल पर कमान का आदर्द्गा वाक्य ''जय श्री वर्ते वीरम'' लिखा है।
अस्सी के मध्य दद्गाक में हुए प्रमुख विस्तार में पुणे एवं मुम्बई स्थित यूनिटों को मध्य वायु कमान से हस्तांतरित कर दिया गया।

दक्षिण वायु कमान के गोवा के क्षेत्र को भी इस कमान के क्षेत्राधिकार में जोड़ दिया गया। इस प्रकार देद्गा का संपूर्ण दक्षिण पद्गिचम क्षेत्र दक्षिण पद्गिचम वायु कमान के वायु रक्षा क्षेत्र में द्याामिल हो गया। कमान के बढ़ते ऑपरेद्गानल महत्व के मद्‌देनजर वायु सेना मुखयालय द्वारा कमान मुखयालय को जोधपुर से गांधीनगर स्थानांतरित करने का निर्णय लिया गया। नए मुखयालय का उद्‌घाटन गुजरात के तत्कालीन मुखयमंत्री श्री केद्गाुभाई पटेल ने ०१ मई १९९८ को किया। इस अवसर पर भव्य समारोह किया गया जिसमें लड़ाकू विमानों एवं हेलिकॉप्टरों द्वारा फ्लाईपास्ट, सुखोई-३० तथा सूर्य किरण वायुयानों द्वारा हवाई कलाबाजी एवं आकाद्गा गंगा पैरा जंपिंग टीम द्वारा फ्री-फॉल प्रदर्द्गान द्याामिल है।

गांधीनगर के सेक्टर-९ में पुराने एम एल ए हॉस्टल जिसमें दक्षिण पद्गिचम वायु कमान स्थित है उसका उपयुक्त तरीके से नवीनीकरण किया गया। दफ्तर की सुविधाओं से युक्त सड़कों, लॉन एवं अन्य सुविधाओं के विधिवत रखरखाव ने इसे काम करने का अच्छा स्थान बना दिया है। चिलोडा में नए भवन का निर्माण एवं आधारभूत संरचना का कार्य आरंभ हो चुका है। एक या दो साल में दक्षिण पद्गिचम कमान मुखयालय गांधीनगर स्थित अपने नए भवन में स्थानांतरित हो जाएगा।

चिलोडा परियोजना

इस परियोजना के लिए गांधीनगर के पास चिलोडा में भारतीय वायु सेना ने २५८ एकड़ जमीन अधिग्रहित की है। भूमि-पूजन एवं वृक्षारोपण अनुヤठान २९ जनवरी ०८ को किया जा चुका है।

स्थल

अधिग्रहित जमीन चिलोडा गांव के समीप स्थित है तथा अहमदाबाद से लगभग ३५ किमी तथा वर्तमान कमान मुखयालय कॉम्पलेक्स सेक्टर-९ गांधीनगर से ७ किमी की दूरी पर है।

एयर मार्द्गाल के डी सिंह प वि से मे अ वि से मे ए डी सी ए ओ सी-इन-सी दक्षिण पद्गिचम वायु कमान, भारतीय वायु सेना और श्रीमती नीलम सिंह अध्यक्ष अफवा (दाएं) २९ जनवरी ०८ को चिलोडा में भूमि पूजन एवं वृक्षारोपण अनुヤठान में।
परियोजना प्रबंधन
परियोजना प्रबंधन टीम में वाुय सेना और एम ई एस और स्टाफ द्याामिल हैं जो ओ टी एम आवास की कार्य सर्विस के निर्बाध निヤपादन एवं उस पर बारीकी से नजर रखने के लिए बनाई गई है।

मास्टर प्लान

• परिसर के पूर्ण रूप से विकसित हो जाने पर यह दक्षिण पद्गिचम वायु कमान मुखयालय के कार्य के लिए जरूरी सभी सुविधाओं से युक्त होगा। इसमें निम्नलिखित सुविधाएं द्याामिल हैं :-
• कमान मुखयालय भवन
• दक्षिण पद्गिचम वायु कमान (यू) भवन
• अफसर मेस एवं आवास
• एस एन सी ओ मेस एवं आवास
• एयरमेन मेस एवं आवास
• एयरमेन संस्थान
• एस एम सी, एस एच ओ तथा परिवार कल्याण केंद्र
• द्याॉपिंग कॉम्पलेक्स, बैंक एवं डाकघर
• स्विमिंग पूल, व्यायामद्गााला, स्क्वॉस कोर्ट, बैडमिंटन कोर्ट तथा खेलने के मैदान सहित खेल सुविधाएं
• १२०० लोगों के बैठने की क्षमता वाला अत्याधुनिक वातानुकूलित ऑडिटोरियम
• युद्ध स्मारक
• धार्मिक स्थल
• सी ई (वा से) कार्यालय कॉम्पलेक्स
• जी ई (वा से) कार्यालय कॉम्पलेक्स
• एम ई एस अफसर मेस
• विद्युत एवं जल आपूर्ति सुविधाएं एवं केंद्रीकृत सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट
• परेड ग्राउंड
• मिनी ए टी सी के साथ हेलिपैड

• दक्षिण पद्गिचम वायु कमान मुखयालय एवं पड़ोस में स्थित यूनिटों के वायुयोद्धाओं के लिए १७ बहुमंजिला ब्लॉक में ९२३ आवास
• चिलोडा कैंप में नौ होल वाले गोल्फ कोर्स के बनाने की भी योजना है।
उपर्युक्त सुविधाओं के लिए कार्य प्रगति पर है तथा दिसंबर २०१० तक निर्माण कार्य पूर्ण करने का प्रयास जारी है।
दक्षिण पद्गिचम वायु कमान अपने अधिकार क्षेत्र के भीतर भारतीय जमीन एवं समुद्री क्षेत्राधिकार में अंतरिक्ष की अखंडता सुनिद्गिचत करने में एवं अतिक्रमण न होने देने में भारतीय अंतरिक्ष की रक्षा के लिए दृढ़ संकल्प है। आरंभ से ही दक्षिण पद्गिचम वायु कमान भारतीय वायु सेना की प्रमुख संक्रियात्मक कमान रही है इसने द्याांति एवं युद्ध दोनों में ऑपरेद्गानों की कमान संभाली है तथा अपनी सुरक्षा में कभी कमी नहीं होने दी है। द्याायद ही वायु सेना का कोई हिस्सा होगा जो सभी मौसमों में दिन-रात कभी भी अपनी संक्रियात्मक गतिविधियों एवं उड़ान की तैयारी में कमी करे। वैमानिकी स्तब्ध करने वाली विद्गोヤाज्ञा, फौलादी दृढ़ता एवं निर्भीक साहस से युक्त पूर्ण रूप से एक नए किस्म के वायुयोद्धाओं में तेजी के साथ बदल रही है। वास्तव में दक्षिण पद्गिचम वायु कमान अपने आदर्द्गा वाक्य ''जय श्री वर्ते वीरम'' सिद्धांतो पर चलता है।


पाकिस्तानी टोही विमान को मार गिराना

हाल के दिनों में दक्षिण पश्चिमी वायु कमान की उल्लेखनीय उपलब्धियों के अलावा एक पाकिस्तानी अटलांटिक पनडुब्बी रोधी सह एंटी शिप युद्ध और १० अगस्कत १९९९ समुद्री टोही विमान विमान भारतीय हवाई क्षेत्र में घुसपैठ की थी की शूटिंग के नीचे है। यह भारतीय वायुसेना के मिग 21 विमान द्वारा चुनौती दी गई थी। पाकिस्तानी विमान मुकर गए और नीचे गोली मार दी थी।

ऑपरेशन पराक्रम

१३ किसंबर ०१ को संसद पर हुए आतंकवादी हमले को देखते हुए, सभी रडार तुरंत सीमा और लड़ाकू विमानों के साथ उनके परिचालन स्थानों पर चले गए थे आगे ठिकानों जैसे नालिया, उत्तरलार्,, जामनगर, भुज और जैसलमेर में तैनात किया गया था के रूप में इतनी की सुरक्षा सुनिश्चित करने क्षेत्र। ऑपरेशन पराक्रम के रूप में जाना जाता है यह तैनाती सबसे लंबे समय तक कभी तैनाती के दौरान जो कई सबक भविष्य में पुरुषों और मशीनों के धीरज के संबंध में, और चिकनी तैनाती के साथ सीखा रहे थे।

ऑपरेशन वायु सहायता

इसके परिचालन प्रतिबद्धताओं इसके अलावा, दक्षिण पश्चिमी वायु कमान भी प्राकृतिक आपदाओं के समय के दौरान पीड़ा के उन्मूलन की दिशा में अपनी ताकत का योगदान दिया है। साथ प्रकृति का प्रकोप भुज की एक ही झटके 26 जनवरी, 2001 संचार लाइनों की सुबह एक गंभीर भूकंप से तबाह हो गया था बोले थे, दुनिया के बाकी हिस्सों से क्षेत्र को काटने। एयर फोर्स स्टेशन भुज भी तबाह हो गया था। एयर ट्रैफिक कंट्रोल इमारत नष्ट हो गया था। फिर भी, एक संगठन के रूप में, भारतीय वायुसेना के अवसर पर गुलाब और एक हवाई पुल बनाया।

राहत उपायों आपदा के कुछ ही घंटों के भीतर दक्षिण पश्चिमी वायु कमान द्वारा शुरू किया गया। मुख्यालय दक्षिण पश्चिमी वायु कमान से चिकित्सा और अन्य कर्मियों दवाओं और राहत सामग्री, कमांडिंग-इन-सी के नेतृत्व में ले जाने का एक दल, एक ही दिन में 1600 घंटे में भुज पर पहुंच गया। अपने निजी त्रासदियों की अनदेखी, वायुसेना स्टेशन भुज के बहादुर कर्मियों चौबीसों घंटे काम किया आधार परिचालन रखने के लिए। जल्द ही, भुज देश, विमान लैंडिंग में सबसे व्यस्त हवाई अड्डा बन गया है या हर पांच मिनट से दूर ले जा। आधारभूत संरचना की कमी है, सबसे बड़ी कभी राहत एवं बचाव अभियान 'सेशन वायु सहायता' मुख्यालय दक्षिण पश्चिमी वायु कमान और अपनी इकाइयों द्वारा पूरा किया गया बावजूद।

गुजरात बाढ़ राहत

2005 के दौरान, लगातार और मूसलाधार बारिश के बाद में, मध्य और दक्षिणी गुजरात के ज्यादातर हिस्सों अभूतपूर्व बाढ़ देखा था। अतीत में के रूप में, भारतीय वायु सेना नागरिक प्रशासन की मदद के लिए आगे आए। एक विशेष बाढ़ राहत सेल तुरंत गांधीनगर में दक्षिण पश्चिमी वायु कमान मुख्यालय में वरिष्ठ एयर स्टाफ अधिकारी के नियंत्रण में परिचालन किया गया था। सेल समन्वित और नागरिक अधिकारियों के साथ विचार-विमर्श के बचाव अभियानों सहित सभी बाढ़ राहत कार्यों को अंजाम दिया। बाढ़ राहत अभियान का मुख्य आकर्षण नीचे गिनाए जाते हैं। भोजन का 1.6 टन हवा इंदौर-गांधीनगर शांति एक्सप्रेस के करीब 400 यात्रियों, डाकोर के पास फंसे लिए गिरा दिया था। 2 जुलाई एक बचाव धावा जब राज्य आपातकालीन ऑप्स केंद्र दो ब्रिटिश नागरिकों और नाडियाड के पास राजमार्ग से दो मीडिया के लोगों के बचाव के लिए अनुरोध किया शुरू किया गया था।एमआई 8 हेलीकाप्टर मिशन के लिए शुरू किया गया था और वे कर्मियों की एक बड़ी संख्या को देखा। कर्मियों की पहचान करने के बाद, दो ब्रिटिश कर्मियों और छह अन्य लोगों के जो आजतक के टीवी के कर्मचारी शामिल अप चढाया और बचाया गया। सूचना कुछ एक सड़क है कि बाढ़ से धुल गया था पर ट्रकों पर असहाय कर्मियों के बारे में प्राप्त किया गया था। सतर्क पायलट तीन ट्रकों पानी में फंसे देखा। वहाँ निकटतम भूमि एक किलोमीटर दूर से भी अधिक जन के साथ प्रत्येक ट्रक पर दो / तीन बचे थे। करीब एक सर्वेक्षण में यह पता चला था कि ट्रक धीरे-धीरे डूब रहा था और कर्मियों डूब जा रहा है की महान खतरे में थे। पायलट तीन ट्रकों में से प्रत्येक से उन्हें पवंच के द्वारा कर्मियों को बचाने का फैसला किया। बहुत कुछ संदर्भ अंक की बाधाओं पवंच के लिए आवश्यक स्थिर और सटीक मंडराना स्थापित करने के बावजूद हेलिकॉप्टर की हवा चालक दल के सभी नौ कर्मियों को बचाने में कामयाब रहे। बाढ़ की स्थिति की गंभीरता मिलान और बेहतर मौसम की स्थिति का लाभ उठाते हुए, भारतीय वायुसेना अपने हवा प्रयासों उनमें से 44 पूर्व अहमदाबाद और बड़ौदा से लगभग 26 वृद्धि हुई है और 03 और 04 को पूरी तरह से करीब 70 उड़ानें भरी घुड़सवार जुला, 05,। छह एमआई -8 और एमआई -17 हेलीकाप्टरों अहमदाबाद में आधारित 70 टन की आपूर्ति बूंद को अंजाम दिया। इसी तरह, पांच बड़ौदा हवा में स्थित हेलीकाप्टरों भोजन और पानी की बोतलों का लगभग 44 टन गिरा दिया। मूसलाधार बारिश और बाढ़ की स्थिति बिगड़ती के रोष का सामना करना पड़ गुजरात के असहाय लोगों के लिए, भारतीय वायुसेना द्वारा इन राहत अभियान के रूप में महान राहत और समय पर मदद के लिए आया था।

सुब्रतो मुखर्जी और जेआरडी टाटा मेमोरियल इवेंट

मुम्बर् में १४ अक्तूबर से १७ अक्तूबर २००४ को एक जागरूकता अतभयान चलाया गया क्षजसके बाि १८ अक्तूबर से २२ अक्तूबर को भती रैली करके महाराヤट्र के युवाओं में से एयरमैन की भती की गर्। यह हवार् जागरूकता अतभयान महाराヤट्र सरकार एवं एयर इंकडया द्वारा संयुक्त रूप से आयोक्षजत ककया गया था। यह समारोह भारतीय वैमातनकी प्रवईतकों के नाम ''सुिोतो मुखजी एवं डी आर डी टाटा स्कमृतत समारोह'' था क्षजसमें से एक ५० वर्ヤाा पूवई भारतीय वायु सेना के प्रथम वायुसेनाध्यि थे तथा िूसरे ७० वर्ヤाा पूवई करांची से मुम्बर् प्रथम भारतीय तसपवल उड़ान भरने वाले थे। जागरूक अतभयान में तनम्नतलक्षखत कायईक्रम थे :-

एयर मार्शल विक्रम सिंह
वायु आफिसर कमांडिंग इन चीफ
दक्षिण पश्चिम वायु कमान, भारतीय वायु सेना
     एयर मार्शल विक्रम सिंह का जन्म 09 अप्रैल 1963  को हरियाणा में हुआ । एयर मार्शल ने मई 1983 में क्राइस्ट कॉलेज बैंगलुरु से स्नातक किया तथा 21 दिसंबर 1984 को फाइटर स्ट्रीम में कमीशन प्राप्त किया । 

     वायु अफसर ने प्रिटोरिया, दक्षिण अफ्रीका में फ्लाइंग इंस्ट्रक्टर कोर्स, एक्सपेरिमेंटल फ्लाइट टेस्ट कोर्स एवं स्टाफ कोर्स का प्रशिक्षण प्राप्त किया है। इससे पहले एयर मार्शल विक्रम सिंह को  मिग-21 और मिराज -2000 में उड़ान भरने का अनुभव प्राप्त था। इन्होने नेशनल फ्लाइट टेस्ट सेंटर में कार्य करने सहित अन्य फ्लाइट टेस्ट कार्यों का भी निर्वहन किया है । एयर मार्शल ने एक एयर फोर्स स्टेशन की कमान भी संभाली है । एयर मार्शल विक्रम सिंह वायुसेना मुख्यालय में विभिन्न स्टाफ पदो पर  कार्यरत रहे हैं एवं  इन्होने मॉस्को, रशिया में एयर अटैशे  के रूप में भी कार्य किया है । वायु अफसर ने एकीकृत रक्षा स्टाफ मुख्यालय में भी सेवाएं  दी हैं एवं वायुसेना मुख्यालय में सहायक वायुसेनाध्यक्ष (योजना) भी रहे हैं । दक्षिण पश्चिम वायुकमान में पदभार ग्रहण करने से पूर्व एयर मार्शल पश्चिम वायुकमान में वरिष्ठ वायु स्टाफ अफसर के पद पर नियुक्त थे । 

     एयर मार्शल का विवाह डॉ. आरती सिंह के साथ हुआ है एवं आपके दो बच्चे हैं । 
संपर्क पता 

पब्लिक रिलेशन यूनिट
रक्षा मंत्रालय पी-50,
छावनी पीछे मुख्यालय 125 एम सी क्षेत्र
अहमदाबाद-380003

संपर्क टेलीफोन नंबर
टेली: 079-22868006
-01123010400
-01123010800
Visitors Today : 9833
Total Visitors : 571441
कॉपीराइट © 2021 भारतीय वायु सेना, भारत सरकार। सभी अधिकार सुरक्षित।
linkedin facebook pinterest youtube rss twitter instagram facebook-blank rss-blank linkedin-blank pinterest youtube twitter instagram